Zulfein Shayari जुल्फें शायरी हिंदी में (2022-23)

Zulfein Shayari In Hindi | जुल्फों शायरी हिंदी में

Zulfein Shayari In Hindi (जुल्फों हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Zulfein Shayari In Hindi | जुल्फों शायरी हिंदी में Zulfein Shayari In Hindi (जुल्फों हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Zulfein Shayari

जुल्फें सीना नाफ कमर
एक नदी में कितने भँवर

बे तरह दिल में भरा रहता है जुल्फों का धुआँ
दम निकल जाए किसी रोज न घुट कर अपना

जुल्फों में तो सदा से ये कज अदाइयाँ हैं
आँखों ने पर ये और ही आँखें दिखाइयाँ हैं

इस शहर के बादल तिरी जुल्फों की तरह हैं
ये आग लगाते हैं बुझाने नहीं आते

ये कह कर सितम गर ने जुल्फों को झटका
बहुत दिन से दुनिया परेशाँ नहीं है

फिर याद बहुत आएगी जुल्फों की घनी शाम
जब धूप में साया कोई सर पर न मिलेगा

गजलों ने वहीं जुल्फों के फैला दिए साए
जिन राहों पे देखा है बहुत धूप कड़ी है

तिरी जुल्फों में दिल उलझा हुआ है
बला के पेच में आया हुआ है

हमारे एक दिल को उन की दो जुल्फों ने घेरा है
ये कहती है कि मेरा है वो कहती है कि मेरा है

उलझा ही रहने दो जुल्फों को सनम
जो न खुल जाएँ भरम अच्छे हैं

कुछ गजलें उन जुल्फों पर हैं कुछ गजलें उन आँखों पर
जाने वाले दोस्त की अब इक यही निशानी बाकी है

Read Also:Duniyadari Shayari 
Read Also:Haal Shayari 
Read Also:Badnaam Shayari